ब्र. आत्मबोधानंद जी की तपस्या 14 मई 2017 से आरम्भ Br. Aatmbodhanand ji begins Tapasya from tomorrow 14th May 2017

anshan aatmbodhanand ji

गंगाजी में एक भी पत्थर और बोल्डर ऊपर से लुढ़ककर नहीं आता है, इस सम्बन्ध में केंद्रीय पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की दो जांच रिपोर्ट पटल पर है जिसमें कहा गया है कि पत्थरों और बोल्डर की प्रतिपूर्ति असंभव है और यह भी कि 1998 में हुए खनन से बने गड्ढे अभी भी जैसे का तैसा ही है| इस सम्बन्ध में CPCB Delhi ने 6 दिसंबर 2016 को EP ACT 1986 की धारा 05 के तहत निर्देश गंगा के रायवाला से भोगपुर के बीच खनन बंद करने, अवैघ खनन रोकने और गंगा किनारे 5 किलोमीटर की दूरी तक संचालित स्टोन क्रेशरों को बंद करने का दिया था| 
इस आदेश को बलपूर्वक लागू करने के लिए मा. उच्च न्यायालय उत्तरखंड का 03 मई २०१७ के आदेश की प्रति कल ही प्राप्त हुई| इन समस्त तथ्यों को दरकिनार कर खनन खोल दिया गया है| एक तरफ मा. उच्च न्यायालय ने गंगा जी को जीवित प्राणी का दर्जा दिया है वहीँ मुख्य सचिव एस. रामास्वामी जी, औद्योगिक सचिव शैलेश बगौली जी, निदेशक एवं अपर सचिव विनय शंकर पाण्डेय जी गंगा जी को बर्बाद करने पर तुले हुए हैं, अतः इन तीनो सहित खनन कार्यादेश जारी करनेवाले को तत्काल निलंबित करने और गंगा जी में खनन बंद करने की संकल्पों को लेकर कल से ब्रह्मचारी आत्मबोधानन्द जी तपस्या शुरू कर देंगे| यह वही सरकार है जिसने EIA Notification 2006 की अवहेलना कर खनन करने के विरुद्ध तपस्यारत स्वामी निगमानंद सरस्वती जी की हत्या करवाई थी और पुनः मातृ सदन के अन्य संतों की हत्या का षड़यंत्र रचा है| अतः इनके कृत्यों को देखकर धर्म के ठेकेदार पार्टी के असलियत को समझें| पूर्व की सरकार में केवल एक हरीश रावत ही मुखर होकर बोलते थे लेकिन इसमें तो कई हरीश रावत है, जिसमे मुख्य मंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, राजस्व मंत्री श्री प्रकाश पन्त, मंत्री मदन कौशिक और विधायक यतीश्वरानंद मुख्य हैं |

‘Not a single stone or bolder comes down from upstream’, there are two such reports from the Ministry of Environment, Forest & Climate Change substantiating this fact, wherein It is said that replenishment of stones and boulders is impossible and the deep pits made while mining still remain as it was in 1998. On December 6, 2017, in relation to above fact CPCB Delhi already issued directions under section 5 of EP Act 1986 to ban mining between Raiwala and Bhogpur, close down all stone crusher within 5 km from the bank of Ganga in this area & take strict action against illegal mining.

To get this order enforced an order was passed by the Hon’ble Uttarakhand High Court on 03 May 2017, copy of this order was published on Hon’ble Court’s website on 12th May. Bypassing all the facts, mining has been re-started. It is ironical that although Hon’ble High Court has declared Ganga as living entity but the Chief Secretary Shri S Ramaswami, Industrial Secy Shri Shailesh Bagoli and additional secretary Shri Vinay Shankar Pandey are bent upon to destroy Ganga Ji with his entire might.

Therefore, Matri Sadan saint Br. Atmbodhanand ji begins Tapasya from tomorrow with the demands to immediately suspend the above stated officials including who issued execution order for mining and stop mining in Ganga. This is the same Govt. who is responsible for the murder of Swami Nigamanand while he was doing Tapasya in a protest against mining being done in violation of EIA Notification 2006. Now the new Govt. is all set to conspire against other saints of Matri Sadan. Be aware and understand the real faces of so called religious people. There was only one Harish Rawat in the previous government but in this present government there are many Harish Rawats such as Chief Minister Shri Trivendra Singh Rawat, Finance Minister Shri Prakash Pant, Minister Shri Madan Kaushik and MLA Shri Yateeshwaranada etc.

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s