Tapasya successful

आज सुबह उपजिलाधिकारी हरिद्वार ने गंगाजी में खनन पूर्णरूप से बन्द कराकर वार्ता का क्रम शुरु किया और तत्पश्चात जिलाधिकारी हरिद्वार के तरफ से दो पत्र शासन में लिखे गए जिसमें पहला पत्र सचिव नगर विकास को लिखा गया जिसमें कुँभ मेला प्रशासनिक प्रतिवेदन के अनुसार कुम्भ क्षेत्र का विस्तार की बात कही गर्इ है और दूसरा पत्र खनन निदेशक को लिखा गया जिसमें माननीय 

उच्च न्यायालय उत्तराखण्ड, एनजीटी के आदेशों जिसमें पाँच हैक्टेयर से कम एरिया का पट्टा नदी में नहीं देने सम्बन्धी निर्देश है और प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड के आदेशों के क्रम में रायवाला से भोगपुर तक खनन बन्द करने के सम्बन्ध में दिशा निर्देश माँगी गर्इ है। इन दोनों पत्रों को लेकर उपजिलाधिकारी हरिद्वार श्री प्रत्यूष सिंह जी मातृ सदन आये तत्पश्चात परमादरणीय श्री गुरुदेव व ब्रह्राचारी आत्मबोधानन्द जी ने जूस पीकर अनशन की पूर्णाहुति की। 

After complete closer of mining by the SDM Haridwar from morning dialogue was started and subsequently the DM Haridwar wrote two letters to the Government, 1st letter was written to the Secretary Urban Development for expansion of Kumbh Mela as per the recommendations made on page no. 163 and 548 in Kumbh Mela Administrative Report 2010 and 2nd letter was addressed to the Director, Mining & Geology regarding seeking direction for closure of mining from Raiwala to Bhogpur in the light of the orders of Hon’ble High Court & NGT (wherein direction were given to not to issue riverbed mining of less than 5 hectares lease area) and  directions issued by the Pollution Control Board.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s