स्वामी सानंद को मनाने की कोशिश में केंद्रीय मंत्री को छूटे पसीने

मंडलीय अस्पताल की इमरजेंसी में दो घंटे चला मान मनौव्वल का दौर
वाराणसी, प्रतिनिधि : गंगा की अविरलता-निर्मलता को तपस्यारत स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद को मनाने की कोशिश में केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल को पसीने छूट गए। लगभग दो घंटे की गुहार- मनुहार पर संत की दो टूक भारी रही। उन्होंने कहा कि मुझे अपने शरीर की चिंता नहीं है, चिंता करनी है तो मां गंगा की करें। साथ ही ताकीद भी कर दी, बोले -अब वादों की घुंट्टी से काम नहीं चलेगा, इस बार लड़ाई आर-पार की होगी। मैं तपस्या के लिए दृढ़ संकल्पित हो चुका हूं, अब ठोस कदम उठाए जाने तक पीछे हटने का सवाल नहीं उठता, प्राण रहे या न रहे।
श्रीप्रकाश जायसवाल मंडलीय अस्पताल में भर्ती संत सानंद को प्रधानमंत्री के दूत के रुप में मंगलवार की शाम मनाने पहुंचे थे। उन्होंने स्वामी जी का चरण स्पर्श किया और कहा कि मां गंगा की निर्मलता से जुड़े प्रोजेक्ट के संबंध में प्रधानमंत्री स्वयं देख रहे हैं। आपके स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं। उनके इतना कहते ही स्वामी सानंद ने लचर रवैये पर कड़े शब्दों में आपत्ति दर्ज करा दी। हालांकि इसके बाद बगल के वार्ड में लगभग एक घंटे तक मांगों के विभिन्न पहलुओं पर विचार मंथन का दौर चला। इसमें स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने केंद्रीय मंत्री को मांगों से अवगत कराया। इस बाबत केंद्रीय मंत्री ने सरकार का पक्ष रखा। बताते हैं इसमें ठोस कदम की बजाय वादे ही अधिक थे, जो संत सानंद तक पहुंचते ही खारिज हो गए। बैठक में जलपुरुष राजेंद्र सिंह, सचिव राजीव शर्मा, कांग्रेस नेता मणिशंकर पांडेय भी शामिल थे। दो घंटे की कवायद में हाथ लगी अस्पताल से निराशा-हताशा। इसके बाद केंद्रीय मंत्री ने संत के चरण छूकर अभिवादन किया और अस्पताल से विदा ली। तदुपरांत स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि सरकार की इच्छाशक्ति प्रबल नहीं दिख रही है, जिससे कोई रास्ता निकले।
पुलिस छावनी बना रहा अस्पताल
केंद्रीय मंत्री के आगमन से पहले ही अस्पताल की इमरजेंसी गैलरी पुलिस छावनी में तब्दील हो गयी। शाम 5.50 बजे उनका आगमन हुआ, 20 मिनट संत से मनुहार, सवा घंटे बैठक, 20 मिनट तक स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद की संत से प्रस्ताव पर चर्चा के उपरांत 7.10 बजे बैठक खत्म हुई। शाम 7.20 बजे संत अस्पताल से रवाना हो गए। इस दौरान इमरजेंसी की लाबी में संत समर्थकों व कांग्रेस कार्यकर्ताओं का जमावड़ा रहा।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s